MBA Student Found Hanging in Pondy, Blue Whale Blamed

Market Investor — MBA Student Found Hanging in Pondy, Blue Whale Blamed — A first-year MBA student from Assam studying at Pondicherry University alleg edly committed suicide on Thur sday after playi ng the controversial Blue Whale game online.  

Shashi Kanta Bora from Dhemaji district was found hanging near his dormitory on the university campus. Police sources, however, said there were no cut marks or bruises on his body , which has been sent for autopsy . The youth reportedly encouraged his friends to play the Blue Whale Challenge.    

Read More: 2019 चुनाव की तैयारी, क्या बड़े फेरबदल से चौंकाएंगे मोदी!

Bora’s family members, however, said they suspected foul play. They have alleged that the youth was, in fact, a victim of ragging. Meanwhile, two more cases of school stu dents taking up the Blue Whale challenge have come to light in Roha and Samaguri in Nagaon district of Assam.

“They had already cut their forearms and tried to draw the whale (tattoo) with a razor,“ police said.

After being rescued, one of the students said, “I played the game with one of my friends. I was in the third stage and my friend in the fifth. The game admin ordered us to draw some images on our hand or leg with razors at certain hours of the day and post pictures to continue.“ His family members, however, claimed that they had not bought him a mobile phone.

The Kamrup (metro) district administration has constituted a monitoring committee for strict vigilance and monitoring to take all possible preventive measures to create awareness and prevent further Blue Whale cases.

2 thoughts on “MBA Student Found Hanging in Pondy, Blue Whale Blamed”

  1. एक नहीं, दो नहीं पूरे 40 थप्पड़, वो भी महज 2 मिनट में। जी नहीं ये किसी गली के गुंडों का बदहवास झगड़ा नहीं है। यहां थप्पड़ मारने वाली है एक कॉन्वेंट स्कूल की टीचर और मार खाने वाला है 7 साल का बच्चा। घटना है लखनऊ के सेंट जॉन वियानी स्कूल की, जहां पर बस इस बात पर बच्चे की बेरहमी से पिटाई कर दी गई कि उसने टीचर की अटेंडेंस कॉल को नहीं सुना। सजा मिली एक के बाद एक 40 थप्पड़। बात थप्पड़ तक ही नहीं रुकी, बेरहम टीचर ने छात्र को जोरदार धक्का दिया और फिर भी मन नहीं भरा तो उसका सिर भी ब्लैकबोर्ड पर दे मारा। दो मिनट तक चले इस टॉर्चर को पूरी क्लास ने देखा।

  2. पूरा वाकया इतना दहला देने वाला था कि क्लास में बैठे छात्रों ने अपना सिर बेंच में छुपा लिया। बच्चा घर पहुंचा तो सूजा हुआ था, माता-पिता स्कूल पहुंचे तो सीसीटीवी फुटेज चेक हुआ, जो दिखा उससे स्कूल का मैनेजमेंट भी गश खा गया। टीचर को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड कर दिया गया लेकिन यहां बड़ा सवाल ये है कि क्या बच्चों के साथ स्कूल में इस तरह का बर्ताव सही है। इस तरह के बर्ताव के लिए सिर्फ टीचर या फिर पूरा स्कूल जिम्मेदार है! नियमों की बात करें तो राइट टू एजुकेशन एक्ट के तहत स्कूल में शारीरिक, मानसिक सजा पर प्रतिबंध है। नियम के उल्लंघन पर सेक्शन 17(1), 17(2) के तहत सजा का प्रावधान है।

Leave a Comment